21 सितम्बर से स्कूल खोलने की तैयारी-स्कूल बच्चों को बुलाने को आतुर क्यों?

21 सितम्बर 2020 से स्कूल खोलने की तैयारी शुरू, केंद्र सरकार ने स्कूल खोलने के लिए दिशा-निर्देश, 21 सितम्बर 2020 से खुल सकेंगे कक्षा 9वीं से 12वीं तक के स्कूल, स्कूल बच्चो को बुलाने को आतुर क्यों?

नमस्कार दोस्तों-Result Uniraj टीम आपको इस पेज में 21 सितम्बर 2020 से खुलने वाले स्कूलों के लिए जारी दिशा-निर्देशों के बारे में सम्पूर्ण जानकारी बताएगी | विश्व में कोरोना महामारी की वजह से भारत सरकार ने भी 25 मार्च 2020 से लॉकडाउन लगा दिया था |

जिसकी वजह से सभी कॉलेज और स्कूल भी बंद कर दी गई थी | देश के सभी स्कूलों में बोर्ड की परीक्षाओं के अलावा सभी कक्षाओं के विधार्थियों को बिना परीक्षा के ही अगली कक्षा में प्रमोट किया गया था | इसके अलावा कॉलेजों में भी केवल अंतिम वर्ष या फाइनल सेमेस्टर के अलावा सभी कक्षाओं के विधार्थियों को बिना परीक्षा ही अगली कक्षा में प्रोन्नति दी गई है |

छात्रों के पढ़ाई बाधित नहीं हो, इसके लिए अधिकतर स्कूल अपने छात्रों को ऑनलाइन कक्षाओं के जरिये भी पढ़ा रहे है | लेकिन अब पांच-छह माह बाद केंद्र सरकार ने कक्षा 9वीं से 12वीं तक के छात्रों को स्कूल जाने की अनुमति प्रदान की है | इसके लिए भी छात्र को अपने माता-पिता या अभिभावक से अनुमति लेनी होगी | उसके बाद ही छात्र को विधालय में प्रवेश दिया जायेगा | अधिक जानकारी के लिए आप इस पेज को आखिर तक जरूर पढ़े |

21 सितम्बर से खुलेंगे स्कूल-अभिभावकों से लेनी होगी अनुमति-

कोरोना संक्रमण के कारण से मार्च माह से बंद पड़े स्कूल अब आगामी 21 सितम्बर 2020 से खुल सकेंगे | केंद्र सरकार द्वारा जारी दिशा निर्देशों के अनुसार फिलहाल कक्षा 9वीं से 12वीं तक के छात्रों को ही स्कूल जाने की मंजूरी दी गई है | इसको लेकर स्वास्थ्य मंत्रालय ने दिशा-निर्देश जारी किया है | जारी दिशा-निर्देशों में यह कहा गया है, कि छात्रों पर निर्भर रहेगा, कि वे स्कूल जाना चाहते है या नहीं |

छात्रों की माँग-कोचिंग संस्थान वापस लौटाए फीस:हाईकोर्ट में लगाई याचिका PNB Specialist Officer 535 Recruitment 2020
कॉलेज और प्रतियोगिता परीक्षाओं की तिथि टकराई-परीक्षार्थी असमंजस में| राजस्थान सरकार ने कहा अंतिम वर्ष परीक्षाएं ऑफलाइन मोड में होंगी

अगर छात्र विधालय जाना चाहता है, तो इसके लिए छात्र को अपने माता-पिता या अभिभावक से लिखित में मंजूरी लेनी होगी | इसके अलावा मंत्रालय ने कहा कि स्कूल अपने यहां पढ़ाई शुरू करने का फैसला लेने के लिए स्वतंत्र है | लेकिन कक्षाएं अलग-अलग टाइम स्लॉट में चलेंगी और कोरोना के लक्षण वाले छात्रों को स्कूल में प्रवेश नहीं दिया जाएगा |

स्कूल खोलने को लेकर इतने आतुर क्यों-

देश में अभी तक स्कूल बंद है, तो बच्चों में मास लेवल पर संक्रमण फैलने से बचा हुआ है | केंद्र सरकार ने विशेष परिस्थिति में गाइडेंस के लिए स्कूल खोलने की अनुमति दी है | ऐसे में स्कूल बच्चों को बुलाने पर इतना आतुर क्यों हो रहे है |

स्कूल संचालको द्वारा फीस वसूलने का लालच बच्चों की जान पर भारी पड़ सकता है | अगर 21 सितम्बर को सभी स्कूलों को खोला जाता है और किसी भी स्कूल में संक्रमण फैल गया तो, इसका जिम्मेदार कौन होगा | ऐसे में अभिभावक भी परेशान है,कि कहीं बढ़ते हुए कोरोना संक्रमण के बीच बच्चों को कुछ हो गया तो क्या होगा |

राजस्थान में पीटीआई के 1555 पद रिक्त-बेरोजगारों को भर्ती का इंतजार रीट में NCTE का पाठ्यक्रम-कॉमर्स के विधार्थियों को सम्मिलित किया जायेगा |
सरकार देगी कोचिंग फीस और 6000 हर महीने का खर्चा OBC, SC छात्रों को (केवल 2000 सीटें) सरकारी नौकरी में अब स्थानीय युवाओं को प्राथमिकता दी जाएगी-कार्मिक विभाग को भेजा प्रस्ताव

केंद्र की गाइडलाइन को दरकिनार कर कई स्कूल तो परिजनों को फोन कर बच्चों को स्कूल बुला रहे है | इसके अलावा कुछ स्कूलों ने तो अभिभावकों से कहा है,कि 21 सितम्बर से कक्षा 9वीं से 12वीं तक के बच्चों के स्कूल नियमित तौर पर खुल जायेंगे |

छात्रों और स्कूलों के लिए आवश्यक दिशा-निर्देश जारी हुए-

केंद्र सरकार द्वारा 21 सितम्बर से खुलने वाले स्कूलों के लिए आवश्यक दिशा-निर्देश जारी किये है | इसमें छात्रों और स्कूलों को जारी दिशा-निर्देशों का पालना करना होगा | यहाँ इस पैराग्राफ में हमारी टीम आपको केंद्र सरकार द्वारा जारी किये गए आवश्यक दिशा-निर्देशों के बारे में अवगत करवा रही है |

  • छात्रों के बीच कक्षा और लैब में 6 फिट की दूरी और मास्क जरुरी होने चाहिए |
  • ऑनलाइन/ डिस्टेसटिंग लर्निंग की अनुमति तब भी जारी रहेगी |
  • छात्रों को आपस में नोटबुक, पेन,पैंसिल,रबर,वाटरबॉटल,लेपटॉप आदि कुछ भी एक दूसरे को लेने-देने की इजाजत नहीं होगी |
  • कक्षाओं के बाहर भी छात्रों और अध्यापकों के बीच बातचीत हो सकती है |
  • स्कूल में सभाएं, स्पोर्ट्स, एक्टिविटी जैसे इवेंट नहीं हो सकेंगे |
  • आगंतुकों और छात्रों-शिक्षकों में भेंट अलग-अलग वक्त होगी |
  • स्कूल में अधिकतम 50% टीचिंग और नॉन-टीचिंग स्टाफ बुला सकेंगे |
  • इमरजेंसी के लिए स्कूलों में स्टेट हेल्पलाइन नंबरो के अलावा स्थानीय स्वास्थ्य के नंबर भी डिस्प्ले होंगे |
  • पल्स ऑक्सीमीटर व्यवस्था अनिवार्य रूप से होनी चाहिए |
  • सफाईकर्मी को थर्मल गन, डिस्पोजल पेपर टॉवेल,साबुन, 1% सोडियम हाइपोक्लोराइट सॉल्यूशन अवश्य देना होगा |

नोट-कंटेनमेंट जोन में आने वाले स्कूलों को खोलने की इजाजत नहीं होगी | कंटेनमेंट जोन में रहने वाले शिक्षकों या कर्मचारियों को भी स्कूल जाने की इजाजत नहीं होगी |

The post 21 सितम्बर से स्कूल खोलने की तैयारी-स्कूल बच्चों को बुलाने को आतुर क्यों? appeared first on Result Uniraj 2020 – University Result & Recruitment News.



Category : 21 se khulenge school,Class 9th to 12th ke students jayenge school,Latest News Update,resultuniraj,Students ko social distesting ka dhyan rakhana hoga

Comments

Popular posts from this blog

Corona Virus Live Updates : चीन में अब तक 2700 से ज्यादा की मौत

Andhiyon Ko Zid Hai Jahan Bijli Girane Ki!!