जनऔषधि केंद्र: आय और रोजगार का अच्छा विकल्प, इस तरह खोल सकते है

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की भारतीय जनऔषधि परियोजना के अंतर्गत देश में लगभग 6000 जनऔषधि केंद्र संचालित है | इन जनऔषदि केंद्र के जरिये सरकार कम दरों पर दवाये उपलब्ध कराती है | इसके अलावा योजना के जरिये लोगो को रोजगार भी मिल रहा है | तो ऐसे में अगर आप भी अपने गांव अथवा शहर में जनऔषधि केंद्र (Janaushadhi Kendra) खोलना चाह रहे है तो आवश्यक है की आप इससे जुडी जानकारी प्राप्त कर ले | प्रधानमंत्री भारतीय जनऔषधि परियोजना (PMBJP) में जनऔषधि केंद्र खोलने के लिए सरकार द्वारा कुछ योग्यताये निर्धारित की गयी है आवेदन से पूर्व आप इन्हे अवश्य चेक कर ले| इस पेज पर हमने इससे संबंधित जानकारी दी हुई है

जनऔषधि केंद्र खोलने में कितना खर्चा एवं कमाई

जनऔषधि केंद्र (PMBJ Kendra) खोलने के लिए आपको अधिक पेसो की आवश्यकता नहीं होगी| सरकार द्वारा जनऔषधि केंद्र खोलने के लिए 2.5 लाख रुपए तक की सहायता प्रदान की जाती है| इसके अलावा आने वाले अन्य खर्च जैसे रैक, डेस्क आदि बनवाने, फ्रीज खरीदने में भी सरकार द्वारा सहायता की जाएगी| आप जन औषधि केंद्र से दवाओं की बिक्री से 20 फीसदी तक का मुनाफा कमा सकते है।

इसके अलावा हर महीने होने वाली बिक्री पर अलग से 15 प्रतिशत का इंसेंटिव मिलता है, हालांकि  इंसेंटिव की अधिकतम सीमा 10,000 रुपये महीना तय है। यह इंसेंटिव तब तक मिलेगा, जब तक कि 2.5 लाख रुपये पूरे न हो जाएं। नक्सल प्रभावित और नॉर्थ ईस्ट के राज्यों में इंसेंटिव की अधिकतम सीमा 15 हजार रुपये प्रति माह तक है।

जनऔषधि केंद्र खोलने के लिए शुरुआत में आपको 1 लाख रुपए की दवाइयां  खरीदनी होगी। बाद में सरकार द्वारा इस पैसा की  प्रतिपूर्ति  (Reimbursement ) कर दिया जायेगा। इसके अलावा सेंटर शुरू करने के लिए आवश्यक रैक, डेस्क आदि बनवाने, फ्रीज खरीदने के लिए भी सरकार द्वारा 1 लाख रुपए तक की सहायता दी जाएगी। सेंटर खोलने के लिए कंप्यूटर आदि के सेटअप पर 50 हजार रुपए तक के खर्च पर भी सरकार यह पैसा रिटर्न करेगी।

जनऔषधि केंद्र खोलने के लिए योग्यता (PMBJ Kendra) 

प्रधानमंत्री भारतीय जनऔषधि परियोजना में जनऔषधि केंद्र (PMBJK) खोलने के लिए तीन केटेगरी निर्धारित की गयी है

पहली कैटेगरी के तहत फार्मासिस्ट, डॉक्टर, रजिस्टर्ड मेडिकल प्रैक्टिशनर या कोई भी व्यक्ति जो बी फार्मा डी फार्मा के कार्य को जनता है जन औषधि केंद्र खोल सकता है।

दूसरी कैटेगरी के तहत ट्रस्ट, एनजीओ, प्राइवेट हॉस्पिटल, सोसायटी और सेल्फ हेल्प ग्रुप को जनऔषधि केंद्र खोल सकता है।

तीसरी कैटेगरी में राज्य सरकारों की ओर से नॉमिनेट एजेंसी जनऔषधि केन्द्र खोल सकती है।

SC ST  एवं दिव्यांग आवेदकों को 50 हजार  रुपए तक की दवाई एडवांस में  दी जाती है|

जानिये क्या है प्रोसेस जनऔषधि केंद्र खोलने की (Process to Open Janaushadhi Kendra)

जनऔषधि केंद्र खोलने के लिए आप ऑफलाइन एवं ऑनलाइन दोनों प्रकार से आवेदन कर सकते है | आवेदन के लिए ऑफिशियल वेबसाइट http://janaushadhi.gov.in/ है | ऑफलाइन आवेदन पत्र पूरी जानकारी भरकर आप सीईओ, फार्मा पब्लिक सेक्टर अंडरटेकिंग्स ऑफ इंडिया (बीपीपीआई), आईडीपीएल कॉरपोरेट कार्यालय, आईडीपीएल कॉम्प्लेक्स, पुरानी दिल्ली गुड़गांव रोड, दुन्दाहेरा, गुड़गांव – 122016 (हरियाणा) पर भेज सकते हैं।

The post जनऔषधि केंद्र: आय और रोजगार का अच्छा विकल्प, इस तरह खोल सकते है appeared first on University News.



Category : Govt. Scheme,Janaushadhi Kendra,Latest News,myuniversity,PMBJ Kendra,PMBJK,PMBJP

Comments

Popular posts from this blog

Corona Virus Live Updates : चीन में अब तक 2700 से ज्यादा की मौत

Andhiyon Ko Zid Hai Jahan Bijli Girane Ki!!