DMRC ने जारी किए यात्रियों के लिए विशेष दिशानिर्देश, जानिये किस चरण में कितने घंटे के लिए चलेगी मेट्रो

राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र में सात सितंबर से शुरू होने वाली मेट्रो सेवाओं को लेकर दिल्ली मेट्रो रेल निगम(डीएमआसी) ने गुरूवार को यात्रियों के लिए विशेष दिशानिर्देश जारी किए और कोरोना संक्रमण को रोकने के लिए इनका पालन सभी यात्रियों को करना अनिवार्य होगा। 
पहले चरण में  7 ,9 और 10 सितंबर तथा दूसरे चरण में 11 सितंबर और तीसरे चरण में 12 सितंबर से मेट्रो रेल सेवाएं शुरू हो रही हैं। मेट्रो परिसरों को कोविड-मुक्त रखे जाने के लिए निवारक उपाय मेट्रो स्टेशनों पर आरंभ में, प्रत्येक स्टेशन पर केवल एक अथवा दो निर्धारित गेट से यात्रियों को प्रवेश/निकास की अनुमति होगी। 
डीएमआरसी ने कोरोना संक्रमण के बीच अपनी सेवाओं को शुरू करने की तैयारियों संबंधी विस्तृत जानकारी यहां राजीव चौक पर मीडिया को दी। इस दौरान एक ट्रेन को डिसप्ले के तौर पर खड़ा किया गया था और उसमें यात्रियों को बैठने संबंधी जानकारी दी गई। यात्रियों को डिब्बे के भीतर एक सीट छोड़कर बैठना होगा और अगर यात्री खड़े होते हैं तो उनके बीच की दूरी कम से कम एक मीटर तय की गई है। 
मेट्रो में चढ़ने के लिए यात्रियों की जानकारी के लिए प्रवेश द्वार के नजदीक गोले बनाए गए हैं और ये निश्चित दूरी को तय करते हैं। स्टेशनों/गाड़ियों में प्रवेश करते समय तथा पूरी यात्रा के दौरान सभी यात्रियों के लिए फेस मास्क पहनना/ चेहरे को कवर करना अनिवार्य होगा। स्वास्थ्य संबंधी अपडेट के लिए यात्रियों द्वारा 'आरोज्ञ सेतु ऐप' का उपयोग अपेक्षित होगा। 
स्टेशन के प्रवेश द्वारों/फ्रिसि्कंग एरिया में सभी यात्रियों को थर्मल स्क्रीनिंग से गुजरना होगा तथा हाथों को सेनिटाइज करना होगा। 45 प्रमुख स्टेशनों पर 'ऑटो थर्मल सह हैंड सेनिटाइजेशन मशीनों' की व्यवस्था की गई है। शेष मेट्रो स्टेशनों पर हैंड सेनिटाइजेशन के लिए 'ऑटो सेनिटाइजर डिस्पेंसर' लगे होंगे और थर्मल स्क्रीनिंग मैनुअली 'थर्मल गन' के द्वारा की जाएगी। यह सुविधा फ्रिसि्कंग/प्रवेश स्थल पर डीएमआरसी/सीआईएसएफ कर्मियों द्वारा दी जाएगी। 
जिन यात्रियों में बुखार अथवा कोविड-19 के लक्षण होंगे, उन्हें यात्रा की अनुमति नहीं दी जाएगी। उन्हें नजदीकी चिकित्सा केंद्र में रिपोर्ट करने को कहा जाएगा। लिफ्ट की क्षमता के आधार पर एक बारी में केवल 2-3 व्यक्तियों को ही लिफ्ट के उपयोग की अनुमति होगी। इसी प्रकार, सोशल डिस्टेंसिंग बनाए रखने के लिए एस्केलेटर पर यात्री एक-एक सीढ़ी छोड़कर खड़े होंगे। 
गौरतलब है कि सात सितंबर को यलो लाइन (समयपुर बादली से हुड्डा सिटी सेंटर और रैपिड मेट्रो,गुरुग्राम) का संचालन सुबह चार घंटे (सात बजे से 11 बजे) और शाम को भी चार घंटे (शाम चार बजे से रात आठ बजे) तक होगा। 
इसके बाद नौ सितंबर को लाइन 3/4-ब्लूलाइन, द्वारका सेक्टर 21 से नोएडा इलेक्ट्रानिक सिटी,वैशाली और लाइन सात (पिंक लाइन) मजलिस पार्क से शिव विहार का संचालन शुरू होगा। यह सेवा भी सुबह और शाम को चार चार घंटे तक रहेगी। इसमें सुबह सात बजे से 11 बजे तक और शाम चार बजे से रात बजे तक मेट्रो सेवाएं उपलब्ध रहेंगी। 
इसी चरण में 10 सितंबर को लाइन एक (रिठाला से शहीद स्थल), लाइन पांच ( ग्रीन लाइन) कीर्ति नगर-इंद्रलोक से ब्रिगेडियर होशियार सिंह और लाइन छह(वायलेट लाइन) कश्मीरी गेट से राजा नाहर सिंह तक चलेगी और इसका समय भी सुबह और शाम को चार चार घंटे का होगा। इसमें सुबह सात बजे से 11 बजे तक और शाम चार बजे से रात बजे तक मेट्रो सेवाएं उपलब्ध रहेंगी। 
दूसरे चरण में 11 सितंबर से मेट्रो सेवायें शुरू होंगी और इसमें मेट्रो ट्रेन यात्रा का समय चार घंटे तक से बढ़कर छह घंटे कर दिया गया है। दूसरे चरण में पहले चरण की लाइनों के अलावा लाइन आठ (मजेंटा लाइन) जनकपुरी पश्चिम से बोटेनिकल गार्डन और लाइन नौ (ग्रे लाइन) द्वारका से नजफ़गढ़ की शुरूआत होगी। इसका समय सुबह सात बजे से पूर्वाह्न 11 बजे और शाम को चार बजे से रात 10 बजे तक होगा। 
तीसरे चरण में 12 सितंबर से सभी लाइनों पर पूरे दिन मेट्रो ट्रेन सेवाएं सुबह छह बजे से रात 11 बजे तक उपलब्ध होंगी। इस चरण में लाइन एक एवं दो के अलावा (एयरपोर्ट एक्सप्रेस लाइन) नयी दिल्ली से द्वारका सेक्टर 21 का परिचालन होगा।

दिल्ली के ऐतिहासिक चांदनी चौक की ख़ूबसूरती में लगे चार चांद, सौंदर्यीकरण से बदला पूरा लुक



Category : Uncategorized

Comments

Popular posts from this blog

Corona Virus Live Updates : चीन में अब तक 2700 से ज्यादा की मौत

Andhiyon Ko Zid Hai Jahan Bijli Girane Ki!!