अहंकार पर कविता :- घमंड | Poem On Ahankar In Hindi

This post is first published here अहंकार पर कविता :- घमंड | Poem On Ahankar In Hindi on ApratimBlog.Com | Motivational Hindi Blog

अहंकार पर कविता में अहंकार से बचने की सलाह दी गई है। संसार में छोटे-बड़े सभी प्राणियों और पदार्थों का महत्त्व होता है, अतः हमें अपने को ही सर्वश्रेष्ठ नहीं समझना चाहिए। जुगनू, तारे, चन्द्रमा, सूरज सभी अपनी अपनी क्षमता के अनुसार जगत को प्रकाशित कर रहे हैं। किसी का यह सोचना अनुचित है कि उसका ही प्रकाश सबसे अच्छा है और दुनिया केवल उसके प्रकाश से ही रोशन हो रही है। हमें घमण्ड से दूर रहकर सबको महत्व प्रदान करना चाहिए। अहंकार पर कविता सोच रहा था बैठा जुगनू अपने मन ही मन, करे उजाला उसका ही बस दुनिया

This post is first published here अहंकार पर कविता :- घमंड | Poem On Ahankar In Hindi on ApratimBlog.Com | Motivational Hindi Blog



Category : apratimblog

Comments

Popular posts from this blog

Corona Virus Live Updates : चीन में अब तक 2700 से ज्यादा की मौत

Andhiyon Ko Zid Hai Jahan Bijli Girane Ki!!